Barsaat Ki Dhun Lyrics in Hindi - Jubin Nautiyal

Barsaat Ki Dhun Lyrics in Hindi song is a very romantic song sung by Jubin Nautiyal. Barsaat Ki Dhun Lyrics (बरसात कि धुन) are written by Rashmi Virag and the music has been Composed and arranged by Rochak Kohli. This song is recreated and originally from Sir movie sung by Kumar Sanu.

Barsaat Ki Dhun Lyrics in Hindi, Jubin Nautiyal, Rochak Kohli, Hindi Songs Lyrics

Barsaat Ki Dhun Lyrics in English

Aao ek bheegi huyi si kahani sunata hoon
Jab aasmaan se boondein nahi
Mohabbat barsi thi
Barsaat ne aisi dhun chhedi
Jiske liye zindagi sadiyon tarsi thi

Kisi shayar ka dil banke
Barasti hain boondein tum pe
Kisi shayar ka dil banke

Barasti hain boondein tum pe
Nazara uff kya hota hai
Ghuzarti hain jab zulfon se
Door kahin ab jao na tum
Sun sun sun barsaat ki dhun sun
Sun sun sun barsaat ki dhun sun


Dil mein yehi ek gham rehta hai
Sath mere tu kam rehta hai
Haan dil mein yehi ek gham rehta hai
Sath mere tu kam rehta hai

Chhod ke abhi jao na tum
Sun sun sun barsaat ki dhun sun
Haan dheere dheere haule haule
Bhiga dengi yeh barsaatein

Haan dheere dheere haule haule
Bhiga dengi yeh barsaatein
Jaane kahan phir milengi
Humein aisi mulakaatein

Sambhalun kaise main dil ko
Deewana chahe bas tumko
Khwahishon mein hi
Jal raha hoon main yahan

Woh pehli si baarish banke
Baras jao na tum hum pe
Hawa ka rukh badal jaaye
Mohabbat karna tum aise
Khwab mera yeh todo na tum


Jismon se barasti baarish
Ne rooh bhiga di hai
Is mausam ki sazish ne
Yoon neend udaa di hai

Waise to dubaane ko bas
Ik boond hi kaafi hai
Socho to zara kya hoga
Abhi raat yeh baaki hai
Sath mere beh jao na tum

Sun sun sun barsaat ki dhun sun
Sun sun sun barsaat ki dhun sun
Bijli chamki lipat gaye hum
Baadal garja simat gaye hum

Bijli chamki lipat gaye hum
Baadal garja simat gaye hum
Hosh bhi ho jaane do ghum

Sun sun sun barsaat ki dhun sun
Sun sun sun barsaat ki dhun sun
Sun sun sun barsaat ki dhun sun


बरसात की धुन Barsaat Ki Dhun Lyrics in Hindi

आओ एक भीगी हुई सी कहानी सुनाता हूँ
जब आसमान से बूँदें नहीं
मोहब्बत बरसी थी
बरसात ने ऐसी धुन छेड़ी
जिसके लिए ज़िन्दगी सदियों तरसी थी

किसी शायर का दिल बनके
बरसाती हैं बूँदें तुमपे
किसी शायर का दिल बनके

बरसाती हैं बूँदें तुमपे
नज़ारा उफ़ क्या होता है
गुज़रती हैं जब जुल्फों से
दूर कहीं अब जाओ ना तुम
सुन सुन सुन बरसात की धुन सुन
सुन सुन सुन बरसात की धुन सुन


दिल में यही एक ग़म रहता है
साथ मेरे तू कम रहता है
हाँ दिल में यही एक ग़म रहता है
साथ मेरे तू कम रहता है

छोड़ के अभी जाओ ना तुम
सुन सुन बरसात की धुन सुन
हाँ धीरे धीरे हौले हौले
भीगा देंगी ये बरसातें

हो धीरे धीरे हौले हौले
भीगा देंगी ये बरसातें
जाने कहाँ फिर मिलेंगी
हमें ऐसी मुलाकातें

संभालू कैसे मैं दिल को
दीवाना चाहे बस तुमको
ख्वाईशों में ही
जल रहा हूँ मैं यहाँ

वो पहली सी बारिश बनके
बरस जाओ ना तुम हमपे
हवा का रुख बदल जाये
मोहब्बत करना तुम ऐसे
ख्वाब मेरा ये तोड़ो ना तुम


जिस्मों पे बरसती बारिश 
ने रूह भिगादी है
इस मौसम की साजिश ने
ये नींदें उड़ा दी है

वैसे तो डूबने को बस
इक बूँद ही काफी है
सोचो तो ज़रा क्या होगा
अभी रात ये बाकी है
साथ मेरे बह जाओ ना तुम

सुन सुन सुन बरसात की धुन सुन 
सुन सुन सुन बरसात की धुन सुन 
बिजली चमकी लिपट गए हम
बादल गरजा सिमट गए हम

बिजली चमकी लिपट गए हम
बादल गरजा सिमट गए हम
होश भी हो जाने दो गुम

सुन सुन सुन बरसात की धुन सुन
सुन सुन सुन बरसात की धुन सुन
सुन सुन सुन बरसात की धुन सुन


More Songs from Jubin Nautiyal

Post a Comment

0 Comments