ऐसी लगी लगन Aisi Lagi Lagan Lyrics in Hindi

Aisi Lagi Lagan Song is a very beautiful Hindi bhajan song sung by Anup Jalota. Aisi Lagi Lagan Lyrics (ऐसी लगी लगन) are penned down by himself Anup Jalota and the music has also been given by him. Aisi lagi lagan song is based on how much mira bai love lord shri krishna.

Aisi Lagi Lagan Lyrics in Hindi, Anup Jalota, Hindi Songs Lyrics
  • Song: Aisi Lagi Lagan
  • Singer: Anup Jalota
  • Music: Anup Jalota
  • Lyrics: Anup Jalota

Aisi Lagi Lagan Lyrics in English

Hai aankh vo
Jo shyam ka darshan kiya kare
Hain shish jo prabhu charan me
Vandan kaiya kare

Bekaar woh mukh hai
Jo rahe vyarth bathon me
Mukh woh hai jo hari naam ka
Sumiran kiya kare

Here moti se nahi
Shobha hai hath ka
Hai hath jo bhagavan ka
Poojan kiya kare


Mar kar bhi amar naam hai
Us jeev ka jag me
Prabhu prem me balidaan jo
Jeevan kiya kare

Aisi lagi lagan mira hogaye magan
Woh to gali gali hari gun gane lagi

Mahalo mei pali banake jogan chali
Mira rani diwani kahane lagi
Aisi lagi lagan mira hogaye magan

Koi roke nahin koi toke nahin
Mira govinda gopala gane lagi
Koi roke nahin koi toke nahin
Mira govinda gopala gane lagi

Baite santon ke sang range mohan ke rang
Mira premi preetham ko manane lagi
Woh to gali gali hari gun gane

Aisi lagi lagan mira hogaye magan
Woh to gali gali hari gun gane lagi


Mahalo mei pali banake jogan chali
Mira rani diwani kahane lagi
Aisi lagi lagan mira hogaye magan

Rana ne vish diya mano amruth piya
Mira sagar me saritha samane lagi
Rana ne vish diya mano amruth piya
Mira sagar me saritha samane lagi

Dukh lakho sahe muh se govinda kahe
Mira govind gopala gane lagi
Woh to gali gali hari gun gane lagi

Aisi lagi lagan mira hogaye magan
Woh to gali gali hari gun gane lagi
Mahalo mei pali banake jogan chali
Mira rani diwani kahane lagi

Aisi lagi lagan mira hogaye magan
Aisi lagi lagan mira hogaye magan


ऐसी लगी लगन Aisi Lagi Lagan Lyrics in Hindi

है आँख वो
जो श्याम का दर्शन किया करे
है शीश जो प्रभु चरण में
वंदन किया करे

बेकार वो मुख है
जो रहे व्यर्थ बातों में
मुख वो है जो हरी नाम
का सुमिरन किया करे


हीरे मोती से नहीं
शोभा है हाथ की
है हाथ जो भगवान का
पूजन किया करे


मर कर भी अमर नाम है
उस जीव का जग में
प्रभु प्रेम में बलिदान जो
जीवन किया करे

ऐसी लागी लगन मीरा हो गयी मगन
वो तो गली गली हरी गुण गाने लगी

महलों में पली बन के जोगन चली
मीरा रानी दीवानी कहाने लगी
ऐसी लागी लगन मीरा हो गयी मगन

कोई रोके नहीं कोई टोके नहीं
मीरा गोविन्द गोपाल गाने लगी
कोई रोके नहीं कोई टोके नहीं
मीरा गोविन्द गोपाल गाने लगी

बैठी संतो के संग रंगी मोहन के रंग
मीरा प्रेमी प्रीतम को मनाने लगी
वो तो गली गली हरी गुण गाने लगी

ऐसी लागी लगन मीरा हो गयी मगन
वो तो गली गली हरी गुण गाने लगी


महलों में पली बन के जोगन चली
मीरा रानी दीवानी कहाने लगी
ऐसी लागी लगन मीरा हो गयी मगन

राणा ने विष दिया मानो अमृत पिया
मीरा सागर में सरिता समाने लगी
राणा ने विष दिया मानो अमृत पिया
मीरा सागर में सरिता समाने लगी

दुख लाखों सहे मुख से गोविन्द कहे
मीरा गोविन्द गोपाल गाने लगी
वो तो गली गली हरी गुण गाने लगी

ऐसी लागी लगन मीरा हो गयी मगन
वो तो गली गली हरी गुण गाने लगी
महलों में पली बन के जोगन चली
मीरा रानी दीवानी कहाने लगी

ऐसी लागी लगन मीरा हो गयी मगन
ऐसी लागी लगन मीरा हो गयी मगन

If you found any mistake in lyrics, then please write down in the comment box.

More Songs That You Might Like

Post a Comment

0 Comments