चाँद का टुकड़ा Chand Ka Tukda Lyrics - Tony Kakkar

Chand Ka Tukda Lyrics - Tony Kakkar

Chand Ka Tukda Song is a latest Hindi album song sung by Tony Kakkar. Chand Ka Tukda Lyrics are written and composed by himself Tony Kakkar and music label is Desi Music Factory.

Chand Ka Tukda Lyrics, Tony Kakkar
  • Song: Chand Ka Tukda
  • Singer: Tony Kakkar
  • Music: Tony Kakkar
  • Lyrics: Tony Kakkar

Chand Ka Tukda Lyrics in English

Duniya kehti tumko chand ka tukda
Duniya kehti tumko chand ka tukda

Nasamajh hain woh unhein pata nahi
Nasamajh hain woh unhein pata nahi
Ke chand tumhara hai tukda

Duniya kehti tumko chand ka tukda
Nasamajh hain woh unhein pata nahi
Ke chand tumhara hai tukda
Duniya kehti tumko chand ka tukda

Ghar se na niklo tum kabhi bhi shaam ko
Bhool jaynge log dekhna chand ko
Bina singaar kitna chehre pe noor hai
Maikhanon mein bhi nahi woh
Nainon mein saroor hai
Nainon mein saroor hai

Nahi dekhna Taj Mahal ab
Dekh liya tera tera mukhda
Nasamajh hain woh unhein pata nahi
Ke chand tumhara hai tukda
Duniya kehti tumko chand ka tukda

Suraj ki laali tere hothon pe rehti hai
Nadiya diwani tere ashkon se behti hai
Sangmarmar sa badan khuda ne tarasha hai
Tujhe kya pata tera samandar bhi pyasa hai
Samandar bhi pyasa hai

Singaar ki nahi zarurat
Kitna sundar mukhda
Nasamajh hain woh unhein pata nahi
Ke chand tumhara hai tukda
Duniya kehti tumko chand ka tukda

Check this also:- Moscow Mashuka


चाँद का टुकड़ा Chand Ka Tukda Lyrics in Hindi

दुनिया कहती तुमको चाँद का टुकड़ा
दुनिया कहती तुमको चाँद का टुकड़ा

नासमझ हैं वो उन्हें पता नहीं
नासमझ हैं वो उन्हें पता नहीं
के चाँद तुम्हारा है टुकड़ा

दुनिया कहती तुमको चाँद का टुकड़ा
नासमझ हैं वो उन्हें पता नहीं
के चाँद तुम्हारा है टुकड़ा
दुनिया कहती तुमको चाँद का टुकड़ा

घर से ना निकलो तुम कभी भी शाम को
भूल जाएंगे लोग देखना चाँद को
बिना सिंगार कितना चेहरे पे नूर है
मेहखानों में भी नहीं वो
नैनों में सरूर है
नैनों में सरूर है

नहीं देखना ताज महल अब
देख लिया तेरा तेरा मुखड़ा
नासमझ हैं वो उन्हें पता नहीं
के चाँद तुम्हारा है टुकड़ा
दुनिया कहती तुमको चाँद का टुकड़ा

सूरज की लाली तेरे होठों पे रहती है
नदिया दिवानी तेरे अश्कों से बहती है
संगमरमर सा बदन खुदा ने तराशा है
तुझे क्या पता तेरा समंदर भी प्यासा है
समंदर भी प्यासा है

सिंगार की नहीं जरूरत
कितना सुंदर मुखड़ा
नासमझ हैं वो उन्हें पता नहीं
के चाँद तुम्हारा है टुकड़ा
दुनिया कहती तुमको चाँद का टुकड़ा

Check this also:- Beat Pe Thumka



If you found any mistakes in lyrics, then please write down in the comment box.

Post a Comment

0 Comments